स्वास्थ्य मंदिर एक परिचय

सेवा भारती द्वारा संचालित प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग केंद्र स्वास्थ्य मंदिर

विगत 4 वर्षों से सेवा भारती द्वारा संचालित प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग केंद्र स्वास्थ्य मंदिर के नाम से अब आकार लेने लगा है I ‍‌‍इसकी सुगंध देश के विभिन्न राज्यों मुंबई, दिल्ली, पंजाब, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा, मध्य प्रदेश, ही नहीं विदेशों वेस्टइंडीज ,कनाडा, हांगकांग में भी पहुंचने लगी है Iसेवा भारती द्वारा संचालित यह केंद्र आप किसी परिचय का मोहताज नहीं रहा मध्य प्रदेश के विभिन्न शहरों जैसे- इंदौर, भोपाल, जबलपुर, रीवा, सतना, सिंगरौली, उज्जैन, देवास, मंदसौर, रतलाम, हरदा, होशंगाबाद, खंडवा ,खरगोन, बुरहानपुर आदि मध्य प्रदेश के कोने-कोने से साधक को अब आगर का यह केंद्र लुभाने लगा है I बाबा बैजनाथ की नगरी आगर के प्राकृतिक सुरमई वातावन तथा तीन और से सरोवर से घिरा यह प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र 5 बीघा क्षेत्र मैं 32 बिस्तरों वाला आवासीय केंद्र है इसमें जैविक वाटिका लघु गौशाला इसके प्राकृतिक स्वरूप को सार्थक करता है I

अभी तक लगभग 700 स्वस्थ्यार्थी इससे लाभान्वित हो चुके हैं I इसमें महिला स्वस्थ्यार्थी 400 पूर्व स्वस्थ्यार्थी 300 हैं यहां सभी विषय रोगों का उपचार सफलतापूर्वक होता है I यहां स्लिप डिस्क, मोटापा, गटिया, थायराइड, घुटनों का दर्द, शुगर, ब्लड प्रेशर, कब्ज, गैस, एसिडिटी, अस्थमा, माइग्रेन, सर्वाईकल, साईनस, चर्मरोग ,विशेष रूप से सोरायसिस, लकवा इत्यादि विषम रोगों से कहीं स्वस्थ्यार्थी यहां आकार छुटकारा पां चुके हैं I सेवा भारती के इस केंद्र में प्राकृतिक चिकित्सा के सभी अंगों उपागो द्वारा षटकर्म कराया जाता है I यहां पर चिकित्सा की सुविधाएं निम्नानुसार है - भापस्नान, सर्कुलर जेटस्प्रे, फुल्टब,कटिस्नान, पूर्ण बैठकस्नान ,मिट्टीस्नान ,गड्ढा स्नान ,सूर्यस्नान , रीडस्नान ,रनस्प्रे रंगचिकित्सा ,मालिश चिकित्सा एवं यहां का विशेष आकर्षण है शिरोधारा ,योगनिद्रा ,आहार चिकित्सा प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र के सेवाभावी चिकित्सक डॉक्टर सतेन्द्र जी परमार का कहना है कि किसी भी व्यक्ति के बीमार होने का मुख्य कारण शरीर के अंदर विजातीय तत्वों की संख्या बढ़ना है I इस चिकित्सा के माध्यम से शरीर के विभिन्न अंगों से पसीने के माध्यम से मलमूत्र के माध्यम से इन विष द्रव्यों को बाहर किया जाता है जिससे व्यक्ति रोगों से मुक्त हो जाता है I

जिन स्वस्थ्यार्थी कोई यहां से लाभ मिला उनमें प्रमुख रूप से शाजापुर से आए श्री कमल सिंह जी जादौन हैI जिनको स्लिप डिस्क की समस्या थी इन्होंने इंदौर के प्रसिद्ध हॉस्पिटल में स्लिप डिस्क का ऑपरेशन करवाया था I ऑपरेशन के बाद भी उनका यह रोग ठीक नहीं हुआ तो डॉक्टरों ने उनको सलाह दी कि अब आप को बेड पर ही सोना है I अब आप कभी ठीक नहीं हो पाएंगे श्री जादौन ने जब सेवा भारती के इस केंद्र के बारे में सुना तो उन्होंने तुरंत यहां आने का निर्णय लिया जब वह इस केंद्र में आए तब उनका कमर से नीचे का हिस्सा सेस लेस था वह चल भी नहीं सकते थे परंतु मात्र 30 दिनों में इस उपचार के बाद उनका रोग ठीक हो गया तथा अब वह तीन किलोमीटर पैदल चल सकते हैं I तथा 3 से 4 घंटे ऑफिस वर्क भी कर सकते हैं उनके अनुसार इस केंद्र से उनको नया जीवन मिला है I इसी कड़ी में एक स्वस्थ्यार्थी देवीलाल दागी जिनको सोरायसिस की समस्या थी इनका पूरा शरीर लगभग सड़ने लग गया था I इससे पूर्व उन्होंने अपने उपचार में लगभग ₹300000 खर्च कर दिए थे परंतु रोग घटने की बजाय बढ़ रहा था I केंद्र में इन्होंने 20 दिन का उपचार लिया बाद में 2 माह बाद 10 दिन का उपचार लिया आज वह रोग से मुक्त है I

मुंबई के सी.ए. धनपाल मंडावत

मुंबई के सी.ए. धनपाल मंडावत कई वर्षों से माइग्रेन रोग से पीड़ित थे मात्र 10 दिन के उपचार में वह पूर्णतया रोग मुक्त हो चुके हैं I

उत्तर प्रदेश के बांदा कि बहन शिखा गुप्ता

उत्तर प्रदेश के बांदा कि बहन शिखा गुप्ता अपने 116 किलो वजन से परेशान थी I अपने जीवन को बोझ समझ रही थी आज वह मात्र 40 दिन के उपचार के बाद १०० किलो की हो चुकी है I